donate



  •  

    श्री राम जन्मभूमि आंदोलन के काल खंड से हिंदुत्व जागरण के समाचारों को उचित रूप से प्रस्तुत करने के लिए नारद जयंती संवत २०४९ तदनुसार मई १९९२ में विश्व संवाद केंद्र कि इस्थापना कि गयी |

    अपने राष्ट्र कि महान संस्कृति के प्रचार में देश के विभिन्न नगरों में लखनऊ , कानपुर, आगरा , गोरखपुर , काशी , देहरादून , दिल्ली , दक्षिण बिहार , बंगाल , असम , महाराष्ट्र , केरल ,तमिलनाडु , कर्णाटक , आंध्र , उत्कल , गुजरात , विदर्भ मध्य भारत , महाकौशल , रायपुर , चित्तोर , जयपुर , पंजाब ,लद्दाक ,जम्मू - कश्मीर , नेपाल में इस्थापित ये केंद्र स्वतंत्र एवं स्वावलम्बी हैं |

    उसी कड़ी में १९९९ में राष्ट्रीय स्वंसेवक संघ के तत्कालीन सह सरकार्यवाह मा. सुरेशराव जी केतकर के कर कमलों द्वारा विश्व संवाद केंद्र मेरठ का शुभारम्भ और प्रभाव क्षेत्र का निरंतर विस्तार कर रहा है |

    विश्व संवाद केंद्र एक स्वतंत्र संथन हैं | जिसका संचालन विश्व संवाद केंद्र न्यास मेरठ द्वारा होता है | यह केंद्र प.उ.प्र क्षेत्र के मेरठ प्रान्त में प्रशासनिक ११ जिलों एवं ३ महानगरों में कार्यरत है | अर्थात मेरठ , सहारनपुर , मुरादाबाद ,कमिशनरी इसका कार्य क्षेत्र है | कार्य का प्रमुख क्षेत्र वैकल्पिक विकास अवधारणाओं कि खोज और वैचारिक अधिष्ठान कि स्थापना है |

    Read More


Like us on Facebook

Current Affairs

Join Rashtriya Swayamsevak Sangh (R.S.S.)

For more details contact Shri Lalit Ji (Praant Sah Prachar Pramukh)
Phone No. +91-9412784833

Recent Articles

  • By राजेंद्&


    महात्मा बुद्ध और वर्ण व्यवस्था

    भगवान बुद्ध स्वयं को आर्य कहते थे दलित नहीं | भगवान बुद्ध को आर्य शब्द से अत्यधिक प्रेë Read More

  • By अनिल गुप


    वैश्वीकरण की असफलता

    पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी ने जिस एकात्म मानववाद का उद्घोष इक्यावन वर्ष पूर्व १९६५ म Read More